बड़ा आदमी बनना है तो इन 3 शब्दों का ख्याल रखे।

0

बड़ा आदमी बनना है तो क्या करे-कई लोग प्रतिदिन बड़ा बनना की चाह में कड़ी मेहनत करने में लगे हुए है।और कई लोग सिर्फ सोच ही रहे है।वैसे इंसान कुछ नही कर पाते है जो सिर्फ बड़ा बनना चाहते है लेकिन कुछ करते नही।बड़ा इंसान वही बनता है जो सोचने के साथ-साथ उस सोच पर अमल भी करता है।कहने का मतलब यह है कि अपने उस सोच को करने की क्षमता भी रखता है।

बड़ा आदमी बनना है तो इन 3 शब्दों का ख्याल रखे
बड़ा आदमी बनना है तो इन 3 शब्दों का ख्याल रखे

तो नमस्कार,दोस्तो आप सभी का फिर से “adviceduniya” पर बहुत-बहुत स्वागत है।आज हम बहुत ही खास टॉपिक पर बात करेंगे।अगर आप बड़ा आदमी बनना चाहते है तो इन बातों पर अमल ज़रूर करे

कई लोग यह जानना की बात करने का सही तरीका क्या होता है?किस तरह से बात करे जिससे लोग प्रभाभित हो जाए।बातचीत से लीडरशिप कैसे जाहिर जो।हम अपने बातचीत में 3 शब्दों का कुछ ज्यादा ही इस्तेमाल करते है।सही शब्द से लोकप्रियता भी हो सकती है।तो गलत प्रयोग करने से अलोकप्रियता भी।

बड़ा आदमी बनना है तो इन 3 शब्दों का प्रयोग करने से पहले रखे ख्याल।

==>दोस्तो मैं कुछ शब्दों पर बाकथ्य करने से पहले ये बताना चाहता हूँ की लोगो की भाषा और विचार से ही कोई इंसान बड़ा बनता है।अगर किसी इंसान के पास खूब पैसा है और लोगो से अच्छा से बात नही करता,किसी को आदर नही करता,लोगो को घृणा की नजरों से देखता है।

तो वैसे इंसान के पास पैसा रहने के बाबजूद भी वह बड़ा इंसान नही कहला सकता।और वही किसी के पास ज्यादा पैसे नही है।और लोगो से अच्छे से घुलता-मिलता है तो वैसे इंसान को तरक्की मिलते देर नही लगता।क्योंकि ये तथ्य है अगर आप किसी को दिल से अच्छे से कुछ भी बोलेंगे तो सामने वाला आपका बात पर अमल ज़रूर करेगा।

किसी भी लोग से बात करने से पहले कुछ बातों का ख्याल रखे ताकि आपसे कोई बात करने में बोर न हो आपसे बात करने में कोई चिढ़े नही।

पहला शब्द-मैं

इस ‘मैं’ शब्द से जितना हो सके परहेज कीजिये।क्योंकि ‘मैं’ शब्द का अर्थ किसी भी कार्य को करने का पूरा श्रेय लेना है।जब भी कोई मैं या उससे जुड़े शब्द को बोलता है।

जैसे-मैंने यह किया,मेरी वजह से लोग आज सफल हुए,मेरी बात करने से यह काम हुआ,मुझसे कभी गलती नही होती,या मैं हमेशा सही करता हु।कोई भी लोग जो बार-बार किसी के सामने ये सब शब्दो का प्रयोग करता है तो वह दुसरो लोगो के सामने अलोकप्रिय होता चला जाता है।

अमेरिका के एक इंस्टिट्यूट ने यह खोजा है कि खुद पर श्रेय लेने से सामने वाले लोग उससे चिढ़ने लगते है।मन ही मन बहुत चिढ़ते है।इसलिए आप कभी भी खुद का श्रेय न ले।

लेकिन ‘मैं’ शब्द का उपयोग सही जगह हो जाता है तो वह आपको विनम्र साबित कर देता है।यदि आपकी टीम या टीम मेंबर से यदि कोई गलती ही जाए।तो आप जिम्मेदारी या स्वीकार कीजिये।की हा मुझसे चूक हुई है।इसमें थोड़ी सी हम सबकी गलती है।इससे आपकी लीडरशिप सामने आएगी।और आप सोच नही सकते फिर आपको उस इंसान से कितना समर्थक मिलेगा।

अपनी टीम की गलतियों की जिमेदारी लेना आपके व्यक्तित्व की मजबूती दिखायेगा।इससे यह साबित होगा की आप परिस्थितियों का सामना करने का हिम्मत रखते है।

जब जब किसी उपलब्धि का श्रेय आपको दे।तो कहिये की यह उपलब्धि मेरी नही है।यह तो पूरे टीम की वजह से हुआ है।ये बात याद रखे कि श्रेय बाटने से बढ़ता है और अपने पास रखने से घटता है।

दूसरी बात-आप

==>दुनिया का सबसे दिलचस्प और आनंददायक शब्दो में से एक ‘आप’ शब्द है।जब भी आपसे कोई बात करता है तब आपको सबसे अच्छा लगता है।जब समने वाला आपके बारे में ज्यादा बात करे और अपने ढींगे कम हाँके।आप यह भी चाहते है कि सामने वाला आपकी तारीफ करे।आपके नारे में अच्छा बोले और आपकी प्रशंशा करे।इसलिए ‘आप’ शब्द का रणनीतिक तरीको से इस्तेमाल करना शुरू कर दीजिये।

जैसे कि-आपसे मिलकर अच्छा लगा,आपकी तरक्की देखकर मुझे बहुत खुसी मिलती है,आपकी तो बात ही अलग है,आपके रहने से माहौल पॉजिटिव और मजेदार हो जाता है,आपके साथ टीम बनाने का मौका मिला तो ज़रूर बताऊंगा।

सच्चाई यह है सब अपनी सुनने में व्यस्त है और किसी को दूसरों की सुनने की वक्त नही है।और ऐसे में आपमे कोई रुचि ले तो आप उनके कर्जदार हो जातेे है।”आप” दुनिया मे सबसे ज्यादा प्रभाव

तीसरी बात-हम

==>यदि आपको लीडर या मोटिवेटर बनना है और आप चाहते है कि आपको लोग फॉलो करें।तो तीसरा सबसे ज्यादा क्रांतिकारी शब्द है “हम”।आपको इस ‘हम’शब्द का सबसे ज्यादा उपयोग करना होगा।

जैसे कि-हम सब यह कर सकते है,हम साथ है तो क्या नही कर सकते,हमलोग चाहे तो क्या नही कर सकते है,हम एक और एक ग्यारह है,हम सौ के बराबर है,हम एक साथ शिखर पर जाएंगे आदि-आदि।

“हम” एकता का शब्द है।”हम” टीम का निर्माण का सभड़ है।”हम” समाज और संस्थान का शब्द है,”हम” मिलकर लक्ष्य प्राप्ति करने का शब्द है।

इन तीनो शब्द का इस्तेमाल मंत्र के लिए कीजिये।अगर आप इन्हें सही जगह और सही समय पर इस्तेमाल करना सीख लिया।तो दुनिया मे किसी का भी बातचीत का क्लास अटेंड करने की ज़रूरत नही पड़ेगी।यदि बातचीत और पब्लिक स्पीकिंग की कला आपके कैरियर के लिए जरूरी है।तो आप सफल वक्ता सफल व्यक्ति ,हव टू विन फ्रेंड एंड इन्फ्लुएंस पीपुल ,ये सब पुस्तको की मदद ले सकते है।

तो दोस्तो अगर आप भी किसी भी इंसान से बात करेंगे तो ध्यान रहे इन तीन शब्दो का प्रयोग करके आप उसके सामने बड़ा आदमी बनने का शौभग्य प्राप्त कर सकते है।

यही सब वाक्चसव आपको अपने जिंदगी में बहुत ऊपर तक ले जाएगा।

Conclusion

तो दोस्तो,कैसा लगा ये आर्टिकल बड़ा आदमी बनना है तो क्या करे।यदि आपको यह पोस्ट बड़ा आदमी बनना है तो क्या करे अच्छा लगा होतो अपने दोस्तों,रिस्तेदारो सभी जगह शेयर करे ताकि वो भी सुवाक्य का उपयोग करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here