टिकटॉक : एक बेहतर भारत के लिए

टिकटॉक : एक बेहतर भारत के लिए
टिकटॉक एक शॉर्ट वीडियो प्लैटफॉर्म है. भारत में इसके 200 मिलियन से अधिक यूजर हैं. सामाजिक कल्याण के लिए महत्वपूर्ण मुद्दों पर जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से इसका लाभ उठाया जा सकता है. टिकटॉक ने सम्पूर्ण भारत में विभिन्न सहारों के लिए हाल ही में टिकटॉक फॉर गुड नाम से एक कैम्पेन आरम्भ किया है.

Tiktok ke fayde

इस कैंपेन का लक्ष्य देश की सांस्कृतिक चेतना को जाग्रत करना है. इस अभियान में भारत की रचनात्मक अर्थव्यवस्था के प्रति टिकटॉक की वचनबद्धता और अंशदान के अलावा सामाजिक भलाई के लिए एक कंटेंट प्लैटफॉर्म के रूप में इसकी भूमिका भी झलकती है. टिकटॉक द्वारा हाल में आरम्भ की गयी कुछ अभियानों की

झांकी इस प्रकार है :

स्वच्छ भारत (क्लीन इंडिया)
टिकटॉक ने हाल में निष्पक्ष और युवा स्वयंसेवकों के सबसे बड़े लाभ-निरपेक्ष संगठन, भूमि के साथ मिलकर स्वच्छ भारत अभियान आरम्भ किया है. अगस्त में आरम्भ यह अभियान महात्मा गाँधी की 150वीं जयंती के अवसर पर 2 अक्टूबर 2019 को समाप्त होगा.

साझेदारी के तहत, टिकटॉक अपने युजरों से अनुरोध करता है की वे साफ़-सुथरे किये गए स्थानों के वीडियो के पहले और बाद में टिकटॉक प्रदर्शित करें. इस बीच भूमि के स्वयंसेवक पूरे भारत के शहरों में स्वच्छता अभियानों की शुरुआत और संचालन करेंगे तथा इन कार्यक्रमों में स्वैच्छिक सेवा देने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करेंगे.

*Visit Indibloghub

क्षुधातृप्ति के नायक (हंगर हीरोज)
एक और अभियान में टिकटॉक ने फ़ूड डिलीवरी ऐप ज़ोमैटो, और फीडिंग इंडिया के वालंटियरों के साथ मिलकर अतिरिक्त भोजन को अनाथाश्रमों में दान किया. फीडिंग इंडिया (जो अब ज़ोमैटो की इकाई है) द्वारा संचालित भोजन अभियान में 25,000 से अधिक स्वयंसेवकों ने भारत के 15 शहरों में अनाथाश्रमों में सुविधा से वंचित लोगों के लिए खाद्यान्न के पैकेट दान किये.

टिकटॉक क्रिएटर्स उस दिन के हंगरहीरोज थे और उनलोगों ने भोजन दान करने तथा अपने प्लैटफॉर्म के माध्यम से अपने व्यापक यूजर आधार के साथ इस मुद्दे को आगे बढ़ाने के लिए शाम में वंचितों और के साथ ज़ोमैटो के साथ एक समारोह का आयोजन किया.

एनजीओ अभियान

टिकटॉक ने प्रमुख सामाजिक उपक्रम, जोश टॉक्स तथा एमएएसएच प्रोजेक्ट फाउंडेशन के साथ सहयोग करते हुए सामाजिक मुद्दों पर जागरूकता का निर्माण किया और व्यापक सामाजिक प्रभाव उत्पन्न करने के लिए टिकटॉकक्रिएटर्स कम्युनिटी को गोलबंद किया

साझेदारी के तहत टिकटॉक विभिन्न एनजीओ के साथ देश में कार्यशालाओं का संचालन कर रहा हैं. इन कार्यशालाओं का उद्देश्य लोगों को इस बात के लिए जागरूक करना है की किस प्रकार गंभीर मुद्दों पर जानकारी के प्रसार के लिए, सामाजिक भलाई के लिए विभिन्न समुदायों के बीच समर्थन और सहयोग का भाव पैदा करने के लिए एक प्लैटफॉर्म के रूप में टिकटॉक का प्रयोग कुशलतापूर्वक किया जा सकता है.

पहली कार्यशाला 16 जुलाई को नई दिल्ली में हुयी थी, जिसमें शिक्षा, डब्लूएएससच, युवा और नारी सशक्तीकरण, वन्याजीव संरक्षण आदि क्षेत्रों के 80 एनजीओ ने भाग लिया.

इन एनजीओ को इस बात की जानकारी दी गयी कि किस प्रकार टिकटॉक जैसे प्लैटफॉर्म के जरिये समर्थकों के ऑनलाइन समुदाय को संतुष्ट किया जा सकता है और संभावित दानकर्ताओं के साथ संपर्क और धनसंग्रह प्रणाली विकसित की जा सकती है. कल के सत्र में उपस्थित कुछ प्रमुख एनजीओ में डब्लूडब्लूएफ इंडिया, कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रेन्स फाउंडेशन, सेव द चिल्ड्रेन, वाटरएड, मैजिक बस, प्लान इंडिया आदि उल्लेखनीय हैं.

Leave a Comment

Share via
Copy link